Skip to main content

Posts

Showing posts from November, 2017

बारिश का पानी.

*padh k rona mt 😋​*
😢  ​for my Best fendzz 😘​ 👇जब  बचपन  था,  तो  जवानी  एक  ड्रीम  था...

जब  जवान  हुए,  तो  बचपन  एक  ज़माना  था... !!

जब  घर  में  रहते  थे,  आज़ादी  अच्छी  लगती  थी...आज  आज़ादी  है,  फिर  भी  घर  जाने  की  जल्दी  रहती  है... !!कभी  होटल  में  जाना  पिज़्ज़ा,  बर्गर  खाना  पसंद  था...आज  घर  पर  आना  और  माँ  के  हाथ  का  खाना  पसंद  है... !!!स्कूल  में  जिनके  साथ  ज़गड़ते  थे,  आज उनको  ही  इंटरनेट  पे  तलाशते  है... !!ख़ुशी  किसमे  होतीं है,  ये  पता  अब  चला  है...
बचपन  क्या  था,  इसका  एहसास  अब  हुआ  है... काश  बदल  सकते  हम  ज़िंदगी  के  कुछ  साल...काश  जी  सकते  हम,  ज़िंदगी  फिर  एक बार...!!
👘 जब हम अपने शर्ट में हाथ छुपाते थे और लोगों से कहते फिरते थे देखो मैंने अपने हाथ जादू से हाथ गायब कर दिए
|🌀🌀✏जब हमारे पास चार रंगों से लिखने वाली एक पेन हुआ करती थी और हम सभी के बटन को एक साथ दबाने की कोशिश किया करते थे |❤💚💙💜👻 जब हम दरवाज़े के पीछे छुपते थे ताकि अगर कोई आये तो उसे डरा सके..👥
👀जब आँख बंद कर सोने का नाटक करते
थे ताकि कोई हमें गोद में उठा के बिस्तर तक …